sawan

सावन और शिव: शैव उपासना का महीना है श्रावण, शंकर को जल की फुहारें प्रिय

श्रावण…सावन मास शुरू हो रहा है। श्रावण का अर्थ है श्रवण करने का समय। चातुर्मास, जिसमें हरि कथा का श्रवण किया जाता है। लेकिन, चातुर्मास का पहला महीना “हर” यानी शिव की उपासना का महीना है। सावन शिव को प्रिय है क्योंकि ये शीतलता प्रदान करता है। हर वो चीज जो शीतलता दे, वो शिव को प्रिय है। भागवत महापुराण में कथा है समुद्र मंथन की। देवता और दानवों ने मिलकर जब समुद्र को मथा तो सबसे पहले हलाहल विष निकला। विष इतना विनाशक था कि सारी सृष्टि में हाहाकार मच गया। भगवान विष्णु ने देवताओं को सलाह दी, जाकर भोलेनाथ को मनाएं, वो ही इस विष को पी सकते हैं। शिव ने विष पिया। गले में अटकाकर रख लिया। पूरा कंठ नीला पड़ गया और तब शिव का एक नाम पड़ा नीलकंठ।

हलाहल से उत्पन्न हो रही अग्नि इतनी तेज थी कि शिव का शरीर पर इसका असर होने लगा। भगवान को ठंडक मिले इसके लिए उन पर जल चढ़ाया गया। शिव प्रसन्न हो गए। तब से शिव पर जल चढ़ाने की परंपरा शुरू हो गई। सावन इस कारण शिव को प्रिय है क्योंकि इस पूरे मास में हल्की फुहारें आसमान से बरसती हैं। ये कथा आज की युवा पीढ़ी को मात्र मायथोलाजी लग सकती है। लेकिन, इसमें संदेश है। संसार में जब भी कुसंस्कारों अत्याचार और व्याभिचार का विष आता है, वो ही इंसान इसे रोक सकता है, जो गृहस्थ होकर भी संन्यासियों जैसा रहता है, सृष्टि का स्वामी होकर भी पहाड़ की गुफाओं में रहने से संतुष्ट होता है, जो अघोर है यानी ऐसा चरित्र जिसके लिए कोई भी बुरा नहीं है, सभी समान हैं। शिव अघोरवाद के प्रवर्तक हैं। श्रावण शिव के प्रति आस्था और इस बात के लिए धन्यवाद का प्रतीक है कि संसार को बचाने के लिए उन्होंने अपने गले में विष धारण किया है।

(Source: Dainik Bhaskar)

Related Posts

Popular News