Sharad Purnima Importance: जानिए इस शरद पूर्णिमा 2019 का विशेष महत्‍व

शरद पूर्णिमा 2019 का है विशेष महत्‍व

Sharad Purnima Importance: यह शरद पूर्णिमा (Sharad Purnima) अन्य पूर्णिमा की तुलना में बहुत लोकप्रिय है। ऐसा माना जाता है कि यह वह दिन है जब चंद्रमा अपनी 16 कलाओं के साथ पृथ्वी पर अमृत बरसता है। दरअसल, हिंदू धर्म में इंसान का हर गुण किसी न किसी कला से जुड़ा होता है।

यह माना जाता है कि 16 कलाओं वाला आदमी सबसे अच्छा आदमी है। ऐसा कहा जाता है कि श्री हरि विष्णु के अवतार भगवान श्री कृष्ण का जन्म 16 कलाओं के साथ हुआ था, जबकि भगवान राम की 12 कलाएं थीं।

शरद पूर्णिमा का महत्व (Sharad Purnima Importance)

शरद पूर्णिमा (Sharad Purnima) को ‘कोजागरा पूर्णिमा’ और ‘रास पूर्णिमा’ के नाम से भी जाना जाता है। इस व्रत को ‘कौमुदी व्रत’ भी कहा जाता है। ऐसी मान्यता है कि शरद पूर्णिमा (Sharad Purnima) के दिन व्रत रखने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

ऐसा कहा जाता है कि इस व्रत का पालन करने वाली विवाहित महिलाओं को संतान की प्राप्ति होती है। इस व्रत का पालन करने वाली माताओं की दीर्घायु होती है। वहीं, अगर कुंवारी लड़कियां यह व्रत रखती हैं, तो उन्हें मनचाहा पति मिलता है।

शरद पूर्णिमा का उज्ज्वल चंद्रमा और स्पष्ट आकाश मानसून के पूर्ण प्रस्थान का प्रतीक है। ऐसा माना जाता है कि इस दिन, यह आकाश से अमृत डालता है।

ऐसा माना जाता है कि इस दिन चंद्रमा के प्रकाश में औषधीय गुण होते हैं, जो कई अनावश्यक बीमारियों को दूर करने की शक्ति रखते हैं।

Related Posts

Popular News