भाटपारा हिंसा: जांच के लिए बंगाल जाएगा तीन सांसदों का दल

बंगाल में उत्तर परगना के भाटपारा शहर में स्थिति अभी भी तनावपूर्ण बनी हुई है। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) भाटपारा हिंसा पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को लगातार घेर रही है। भाटपारा हिंसा के विरोध में कोलकाता में तीन सदस्यीय दल शनिवार को पहुंचेगा और हिंसा का विरोध करेगा। सांसद एसएस अहलूवालिया के नेतृत्व में एक टीम शनिवार को कोलकाता पहुंच रही है। टीम में उनके अलावा, सांसद सत्यपाल सिंह और बी.डी. राम। सांसद टीएमसी सरकार के खिलाफ भी मार्च करेंगे।

गुरुवार को तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) और भाटपारा के नए पुलिस स्टेशन के पास भाजपा समर्थकों के बीच हिंसक झड़प हुई। इस दौरान न केवल बमबारी हुई बल्कि दोनों पक्षों में गोलियां भी चलीं। इस हिंसक झड़प में दो लोग मारे गए थे।

शुक्रवार को बीजेपी ने भी कोलकाता की सड़कों पर भाटपारा हिंसा के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया था। इस बीच, भाजपा समर्थकों ने न केवल पश्चिम बंगाल को बचाने की कोशिश की, बल्कि ममता बनर्जी सरकार के खिलाफ नारे भी लगाए। उत्तर 24 परगना के प्रभावित इलाकों में तनाव को देखते हुए धारा 144 लागू कर दी गई। इसके बावजूद बीजेपी ने विरोध मार्च निकाला। वहीं, भाटपारा हिंसा के बाद चौंकाने वाले CCTV फुजेट्स आए।

CCTV फुटेज से छेड़छाड़

यह स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है कि हिंसा फैलाने वालों ने अपना अपराध छिपाने के लिए इलाके में लगे सीसीटीवी कैमरों को तोड़ दिया। 2019 लोकसभा चुनाव से ही पश्चिम बंगाल में हिंसक झड़प की घटनाएं सामने आ रही हैं। टीएमसी और बीजेपी एक दूसरे पर हिंसा भड़काने का आरोप लगा रहे हैं। ममता बनर्जी का आरोप है कि बीजेपी हिंसा फैला रही है। वहीं, बीजेपी दावा कर रही है कि टीएमसी कैडर लगातार बीजेपी समर्थकों को निशाना बना रहा है।

सांसद भी शामिल होंगे

इस आरोप में सांसद एसएस अहलूवालिया के नेतृत्व में एक टीम शनिवार को कोलकाता जा रही है। टीम में उनके अलावा, सांसद सत्यपाल सिंह और बी.डी. राम होंगे। बंगाल में उत्तर 24 परगना के भाटपारा में हिंसा का मामला गंभीर होता जा रहा है। भाटपारा की हिंसा में दो स्थानीय लोगों की मौत के बाद, स्थानीय भाजपा सांसद अर्जुन सिंह ने शव के साथ मार्च निकाला। भाटपारा में धारा 144 लागू है, इसके बावजूद मार्च निकाला गया है। इस मार्च के दौरान पथराव भी हुआ था।

दो लोगों की मौत

बंगाल के चुनाव के बाद से भाटपारा में हिंसा राजनीतिक हिंसा की एक और कड़ी है। गुरुवार को भाजपा और टीएमसी के दो गुटों के बीच हिंसक झड़प हुई, जिसके बाद पुलिस और आरएएफ को हवाई फायरिंग करनी पड़ी। हालांकि, बीजेपी ने आरोप लगाया कि मरने वाले दो लोग पुलिस की गोली से मारे गए। इन आरोपों की अभी पुष्टि नहीं की जा सकी है। पश्चिम बंगाल के 24 परगना जिले के भाटपाड़ा में 16 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

क्रूड बम का इस्तेमाल

प्रत्यक्षदर्शियों ने देखा कि दो बदमाश कच्चे बम फेंककर भाग गए। तनाव के कारण इलाके की दुकानें बंद हो गईं। लोगों ने शिकायत की कि सरकारी हस्तक्षेप के बावजूद, पुलिस द्वारा कोई निगरानी नहीं रखी गई।

Related Posts

Popular News