Maharashtra News: क्या फ्लोर टेस्ट में दम दिखा पाएगी देवेंद्र फडणवीस की सरकार?

Devendra Fadnavis Sharad Pawar

NCP प्रमुख शरद पवार के ट्वीट के बाद तीन बड़े सवाल खड़े हो गए हैं। शरद पवार ने कहा कि देवेंद्र फडणवीस सरकार को समर्थन देना अजीत पवार का निजी फैसला है। शरद पवार इस फैसले के खिलाफ हैं। उन्होंने शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे को हर संभव कार्रवाई का आश्वासन दिया। सवाल यह है कि क्या देवेंद्र फडणवीस सरकार इस स्थिति में सत्ता में रह पाएगी?

पूर्व केंद्रीय कानून और कानून सचिव का कहना है कि अजीत पवार ने भाजपा का समर्थन किया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अजीत पवार पार्टी के विधायक दल के नेता हैं। सूत्रों के अनुसार, विधायक दल के नेता को अपनी पार्टी के विधायकों के समर्थन पत्र को दूसरी पार्टी को देने का अधिकार है।

राज्यपाल विधायक दल के नेता पर भरोसा कर सकते हैं, क्योंकि विधायक उनकी पार्टी का नेता है। इसलिए यहां कुछ भी गलत नहीं है। पूर्व केंद्रीय सचिव का कहना है कि यह अलग बात है कि पार्टी में बगावत होनी चाहिए, पार्टी के विधायक को दूसरे नेता का चयन करना चाहिए या सदन में बहुमत साबित करने की स्थिति में विधायक बागी अजीत पवार को छोड़ दे।

यह एक बड़ा सवाल है। शरद पवार के रुख के मद्देनजर कोर्ट में केस तय होने वाला है। यही नहीं, NCP विधायकों की परेड जैसी स्थिति राज्यपाल के सामने आ सकती है। ऐसे में भाजपा की देवेंद्र फडणवीस सरकार को सदन में बहुमत साबित करना पड़ सकता है। यह स्थिति शरद पवार के लिए अपनी पार्टी की कमान संभालने की अग्नि परीक्षा जैसी होगी।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *