Big Breaking: महाराष्ट्र में बीजेपी ने शुरू किया ‘ऑपरेशन कमल’

Maharastra Update

महाराष्ट्र में बीजेपी ने ‘ऑपरेशन कमल’ शुरू कर दिया है। चार बीजेपी नेताओं की एक टीम बनाई गई और उन्हें शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के विधायकों से संपर्क करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। बीजेपी ने नारायण राणे, राधाकृष्ण विखे पाटिल, गणेश नाइक और बबनराव पचपुते को ये जिम्मेदारी दी है। गौरतलब है कि विधायकों की खरीद के डर से – तीनों पार्टियों ने अपने विधायकों को होटल में रखा है।

महाराष्ट्र की राजनीति में सियासी उथल पुथल के मामले पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के बाद, भाजपा पूरी तरह से सक्रिय मोड में आ गई है। बीजेपी के सभी विधायक मुंबई में बीजेपी पार्टी कार्यालय में बैठक कर रहे हैं। वहीं, भाजपा नेता आशीष शेलार ने सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिए गए फैसले को भाजपा की जीत बताया और कहा कि फ्लोर टेस्ट होने तक हम बहुमत साबित करेंगे।

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने 51 विधायकों के समर्थन का दावा किया और अजीत पवार भाजपा छोड़ने को तैयार नहीं हैं। उन्होंने जयंत पाटिल से कहा है कि राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी को इसमें फायदा है। अजीत पवार को मनाने के लिए शरद पवार और सुप्रिया सुले ने उनके भाई श्रीनिवास से बात की। उद्धव ठाकरे और शरद पवार ने अपने विधायकों के साथ बैठक की और उन्हें विस्वास दिलाया कि घबराएं नहीं, हमारे पास संख्या है।

अजीत पवार ने नरेंद्र मोदी, अमित शाह और राजनाथ सिंह के साथ साथ नितिन गडकरी को धन्यवाद दिया। अजीत पवार ने कहा, “महाराष्ट्र को एक स्थायी सरकार देंगे और यह सरकार लोगों के कल्याण के लिए काम करेगी।”

भाजपा विधायकों के साथ मुंबई के बीजेपी दफ्तर में सीएम देवेंद्र फडणवीस की बैठक शुरू हो गई है। महाराष्ट्र भाजपा के शीर्ष नेता इस बैठक में मौजूद हैं। इसके अलावा भूपेंद्र चौबे और पीयूष गोयल भी बैठक में भाग ले रहे हैं। बीजेपी रविवार को अपने विधायकों के साथ बैठक कर रही है। बीजेपी ने दावा किया कि बैठक में कुल 118 विधायक मौजूद हैं। महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में भाजपा के 105 विधायक जीते हैं। बीजेपी अन्य 13 निर्दलीय विधायकों के समर्थन का दावा कर रही है।

महाराष्ट्र में बीजेपी की बैठक के बाद, भाजपा नेता आशीष शेलार ने कहा, “हमने फ्लोर टेस्ट पास करने के बारे में चर्चा की और हम फ्लोर टेस्ट पास भी करेंगे। शिवसेना ने महाराष्ट्र के जनादेश का अपमान करके बहुत बड़ा महापाप किया है।”

शिवसेना-कांग्रेस-एनसीपी की देवेंद्र फणडवीस के शपथ ग्रहण को चुनौती देने वाली याचिका पर रविवार को सुनवाई हुई। सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में केंद्र सरकार, महाराष्ट्र की सरकार, देवेंद्र फणडवीस और अजीत पवार को नोटिस जारी कर दिया हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *